Read This Is Not That Dawn: Jhootha Sach by Yashpal Free Online


Ebook This Is Not That Dawn: Jhootha Sach by Yashpal read! Book Title: This Is Not That Dawn: Jhootha Sach
The author of the book: Yashpal
Language: English
ISBN: No data
ISBN 13: No data
Format files: PDF
The size of the: 13.63 MB
Edition: Penguin
Date of issue: July 5th 2010

Read full description of the books This Is Not That Dawn: Jhootha Sach:

Jhootha Sach is arguably the most outstanding piece of Hindi literature written about the Partiton. Reviving life in Lahore as it was before 1947, the book opens on a nostalgic note, with vivid descriptions of the people that lived in the city’s streets and lanes like Bhola Pandhe Ki Gali: Tara, who wanted an education above marriage; Puri, whose ideology and principles often came in the way of his impoverished circumstances; Asad, who was ready to sacrifice his love for the sake of communal harmony. Their lives—and those of other memorable characters—are forever altered as the carnage that ensues on the eve of Independence shatters the beauty and peace of the land, killing millions of Hindus and Muslims, and forcing others to leave their homes forever.

Published in English translation for the first time, Yashpal’s controversial novel is a politically charged, powerful tale of human suffering.

Read Ebooks by Yashpal



Read information about the author

Ebook This Is Not That Dawn: Jhootha Sach read Online! यशपाल (३ दिसंबर १९०३ - २६ दिसंबर १९७६) का नाम आधुनिक हिन्दी साहित्य के कथाकारों में प्रमुख है। ये एक साथ ही क्रांतिकारी एवं लेखक दोनों रूपों में जाने जाते है। प्रेमचंद के बाद हिन्दी के सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कथाकारों में इनका नाम लिया जाता है। अपने विद्यार्थी जीवन से ही यशपाल क्रांतिकारी आन्दोलन से जुड़े, इसके परिणामस्वरुप लम्बी फरारी और जेल में व्यतीत करना पड़ा । इसके बाद इन्होने साहित्य को अपना जीवन बनाया, जो काम कभी इन्होने बंदूक के माध्यम से किया था, अब वही काम इन्होने बुलेटिन के माध्यम से जनजागरण का काम शुरु किया। यशपाल को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

यशपाल का जन्म 3 दिसंबर, 1903 को पंजाब में, फ़ीरोज़पुर छावनी में एक साधारण खत्री परिवार में हुआ था। उनकी माँ श्रीमती प्रेमदेवी वहाँ अनाथालय के एक स्कूल में अध्यापिका थीं। यशपाल के पिता हीरालाल एक साधारण कारोबारी व्यक्ति थे। उनका पैतृक गाँव रंघाड़ था, जहाँ कभी उनके पूर्वज हमीरपुर से आकर बस गए थे। पिता की एक छोटी-सी दुकान थी और उनके व्यवसाय के कारण ही लोग उन्हें ‘लाला’ कहते-पुकारते थे। बीच-बीच में वे घोड़े पर सामान लादकर फेरी के लिए आस-पास के गाँवों में भी जाते थे। अपने व्यवसाय से जो थोड़ा-बहुत पैसा उन्होंने इकट्ठा किया था उसे वे, बिना किसी पुख़्ता लिखा-पढ़ी के, हथ उधारू तौर पर सूद पर उठाया करते थे। अपने परिवार के प्रति उनका ध्यान नहीं था। इसीलिए यशपाल की माँ अपने दो बेटों—यशपाल और धर्मपाल—को लेकर फ़िरोज़पुर छावनी में आर्य समाज के एक स्कूल में पढ़ाते हुए अपने बच्चों की शिक्षा-दीक्षा के बारे में कुछ अधिक ही सजग थीं। यशपाल के विकास में ग़रीबी के प्रति तीखी घृणा आर्य समाज और स्वाधीनता आंदोलन के प्रति उपजे आकर्षण के मूल में उनकी माँ और इस परिवेश की एक निर्णायक भूमिका रही है। यशपाल के रचनात्मक विकास में उनके बचपन में भोगी गई ग़रीबी की एक विशिष्ट भूमिका थी।


Ebooks PDF Epub



Add a comment to This Is Not That Dawn: Jhootha Sach




Read EBOOK This Is Not That Dawn: Jhootha Sach by Yashpal Online free

Download This Is Not That Dawn: Jhootha Sach PDF: this-is-not-that-dawn-jhootha-sach.pdf This Is Not That Dawn: Jhootha Sach PDF